Mangalwar ke din kya karna chahiye || मंगलवार को करे ये उपाय होगी सारी मनोकामना पूरी +919950420009 #Hanumanji #Jaishriram #Vashikaranguru

सप्ताह के हर दिन का अपना एक महत्व होता है। ये तो सभी जानते हैं कि मंगलवार भगवान श्रीराम के अनन्य भक्त हनुमान का होता है। बजरंग बलि बल, विद्या, बुद्धि, विवेक, ज्ञान, विज्ञान के दाता हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पवनपुत्र हनुमान न तो अपने देवता और ना ही अपने भक्त किसी को भी निराश नहीं देख सकते हैं। माना जाता है कि संकट के समय आपकी ऊर्जा की हानि होती है। मंगलवार को हनुमान जी का पूजन करने से सभी कष्टों से मुक्ति मिल जाती है। अगर आप संकट के समय में मंगलवार के दिन हनुमानजी को प्रसन्न करने के लिए विशेष उपाय करें तो कुछ ही समय में आपकी किस्मत बदल सकती है और आपके कष्ट का निवारण हो सकता है। मंगलवार का व्रत बहुत ही लाभदायक और शुभ होता है। ये व्रत करने से पापों से मुक्ति मिलती है और आपके बिगड़े काम बन जाते हैं। आज हम आपको इस दिन हनुमान जी को प्रसन्न करने के कुछ उपाय बताते हैं। जिससे आपके अधूरे काम भी पूरे हो जाते हैं।

Watch Full Video

मंगलवार को हनुमानजी का दिन होता है। इस दिन कई लोग व्रत भी रखतें है। मंगलबार को मंगल ग्रह के निमित्त के लिए विशेष पूजन भी किया जाता है। माना जाता है कि इस पूजा से जमीन संबंधी कार्यों में विशेष लाभ मिल सकता है और आप पर हनुमान जा की विशेष कृपा बनी रहती है। इस दिन किसी भी काम के शुरु किया जाता है तो वो शुभ माना जाता है, क्योंकि सनातन धर्म में मंगल को ‘पवित्र और शुभ’ माना जाता है।

ज्योतिष मंगल को ऊर्जा का कारक मानते है। माना जाता है कि संकट के समय आपकी ऊर्जा की हानि होती है। अगर आप संकट के समय में मंगलवार के दिन हनुमानजी को प्रसन्न करने के लिए विशेष उपाय करें तो कुछ ही समय में आपकी किस्मत बदल सकती है और आपके कष्ट का निवारण हो सकता है। जानिए ऐसे उपाय के बारें में जिससे आपकी हर मनेकामना पूरी होने के साथ-साथ हर कष्ट से छूटकारा मिल जाएगा।

* हर मंगलवार सूर्य उदय होने के पूर्व स्नान कर हनुमान जी को नमन अवश्य करना चाहिए। सुबह सुबह भक्ति का माहोल रहता हैं। ऐसे में हनुमान जी भक्तो की जल्दी सुनते हैं।

* मंगलवार को शाम के समय हनुमान जी को केवड़े का इत्र व गुलाब की माला चढ़ाएं। हनुमान जी को खुश करने का यह सबसे सरल उपाय है।

* हनुमान जी को गुड़ और चने का भोग लगाना चाहिए। ध्यान रहे कि भोग लगाने के लिए गुड़ और चने को साबुत पान के पत्ते में रखना चाहिए।